अपने Tractor का insurance कैसे करें? आसान तरीका समझें-

0
44

अगर आपके पास ट्रैक्टर है और आप यह जानना चाहते हैं कि ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कैसे होता है या फिर ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कैसे किया जाता है तो इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि Tractor का insurance कैसे करें? अथवा ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करने का तरीका क्या है।

Tractor ka insurancea kaise kare

सभी ट्रैक्टर चालकों या मालिकों के लिए ट्रेक्टर का इंश्योरेंस करवाना जरूरी होता है,ताकि किसी भी प्रकार की दुर्घटना में आपको इंश्योरेंस के पैसे क्लेम करके प्राप्त हो सके।

गाडी पुरानी हो अथवा नई हो, सड़क पर उसे चलाने के लिए सभी आवश्यक document होने चाहिए ताकि किसी भी प्रकार की कानूनी प्रक्रिया से बचा जा सके। गाड़ियां अलग-अलग प्रकार की होती हैं और अधिकतर गाड़ियों के लिए इंश्योरेंस अनिवार्य होता है।

ट्रैक्टर इंश्योरेंस क्या है?

आपके ट्रैक्टर के लिए इंश्योरेंस एक ऐसा दस्तावेज है, जिसके तहत बीमा कम्पनी द्वारा tractor के नुकसान की स्तिथि में भरपाई के तौर पर निश्चित राशि दी जाती है।

अगर आपके पास ट्रैक्टर है तो आपको ट्रैक्टर इंश्योरेंस करवाना पड़ेगा। इंश्योरेंस करवाने से यह फायदा होता है कि अगर आपके ट्रैक्टर को कोई नुकसान हो जाता है।

या फिर आपका ट्रैक्टर चोरी हो जाता है अथवा कहीं पर खो जाता है तो आप अपने ट्रैक्टर की रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज करके उसकी रिपोर्ट को अपनी इंश्योरेंस कंपनी में जमा करके अपने ट्रैक्टर की वैल्यूएशन के हिसाब से पैसे प्राप्त कर सकते हैं।

ट्रैक्टर इंश्योरेंस करवाने पर आपको एक निश्चित रकम एक ही बार में इंश्योरेंस कंपनी में जमा कर देनी होती है।

इसके बाद इंश्योरेंस कंपनी की पॉलिसी के हिसाब से आपके ट्रैक्टर का इंश्योरेंस चलता है और जब आपके ट्रैक्टर का इंश्योरेंस एक्सपायर हो जाता है तब आपको उसे फिर से रिन्यू करवाना पड़ता है।

सामान्य तौर पर कंपनियां 1 साल या फिर 2 साल के लिए ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करती है।

ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कैसे करें? Step by Step

बता दें देश में ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कई कंपनियां करती है, जिसमें श्रीराम फाइनेंस, इफको टोक्यो, एचडीवी जैसी कंपनियां शामिल हैं। इसके अलावा भी कई प्राइवेट कंपनियां भी ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करती हैं, जैसे कि ओरिएंटल इंश्योरेंस इत्यादि।इसीलिए सबसे पहले तो यह निश्चय करें कि आपको अपने ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कौन सी कंपनी से करवाना है।

1: कंपनी का सिलेक्शन करने के बाद आपको अपने ट्रैक्टर से संबंधित डॉक्यूमेंट को लेकर उस कंपनी के पास जाना है और वहां पर मौजूद इंश्योरेंस ऑफिसर से मिलना है और उनसे यह कहना कि आप अपने ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करवाना चाहते हैं।

2: इसके बाद इंश्योरेंस ऑफिसर आपके ट्रैक्टर की वैल्यूएशन निकालेगा और आपके ट्रैक्टर को ऑन द स्पॉट विजिट करेगा।

3: इसके बाद इंश्योरेंस ऑफिसर आपके ट्रैक्टर के आवश्यक डॉक्यूमेंट लेगा। और वैल्यूएशन के हिसाब से आपके ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कर देगा,जिसके बाद आपको एक निश्चित रकम तुरंत ही इंश्योरेंस ऑफिसर को जमा करनी पड़ेगी।यह रकम एक ही बार आपको जमा करनी पड़ती है।

4: इसके बाद इंश्योरेंस ऑफिसर आपके द्वारा दिए गए प्लान के तहत 1 या फिर 2 साल के लिए आपके ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कर देगा।

इस प्रकार आपके ट्रैक्टर का इंश्योरेंस आप करवा सकते हैं। इसके बाद अगर आप का ट्रैक्टर चोरी हो जाता है अथवा दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है या फिर कहीं पर खो जाता है, तो आप अपने ट्रैक्टर की वैल्यूएशन के हिसाब से रकम पाने के लिए उस इंश्योरेंस कंपनी में क्लेम कर सकते हैं, जिससे आपने इंश्योरेंस करवाया है।

ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करने वाली कंपनी कौन सी है?

ट्रैक्टर का इंश्योरेंस बहुत सारी कंपनी करती है,जिनमें से प्रमुख कंपनी के नाम इस प्रकार हैं।

• श्रीराम फाइनेंस
• एचडीबी
• एचडीएफसी ट्रैक्टर इंश्योरेंस
• भारती एक्सा ट्रैक्टर इंश्योरेंस
• इफको टोकियो
• ओरिएंटल इंश्योरेंस
• स्टार इंडिया इंश्योरेंस
• बजाज आलियांज ट्रैक्टर इंश्योरेंस

ट्रैक्टर इंश्योरेंस करवाने के फायदे क्या है?

ट्रैक्टर इंश्योरेंस करवाने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि अगर आपका ट्रैक्टर कहीं पर खो जाता है या फिर किसी व्यक्ति के द्वारा आपका ट्रैक्टर चोरी कर लिया जाता है या फिर आपके ट्रैक्टर का एक्सीडेंट हो जाता है।

तो आप अपनी ट्रैक्टर की वैल्यूएशन के हिसाब से आपने जिस कंपनी से अपने ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करवाया होता है, वहां पर जाकर क्लेम कर सकते हैं और पॉलिसी के हिसाब से आपको अपने ट्रैक्टर की वैल्यूएशन के हिसाब से पैसे प्राप्त हो सकते हैं।

जिसका इस्तेमाल आप दूसरा ट्रैक्टर खरीदने में कर सकते हैं या फिर किसी अन्य काम के लिए भी कर सकते हैं। इसके अलावा ट्रैक्टर इंश्योरेंस होने से आप इस बात से निश्चिंत होते हैं कि अगर आप का ट्रैक्टर चोरी हो जाता है तो आप क्या करेंगे।

FAQ: Tractor के insurance से सम्बंधित एक सवाल

Q: क्या गाड़ी का इंश्योरेंस करवाना आवश्यक होता है?

Ans: जी हां गाड़ी का इंश्योरेंस करवाना जरूरी होता है।

Q: इंश्योरेंस नहीं होने पर क्या हो सकता है

Ans: इंश्योरेंस नहीं होने पर आरटीओ डिपार्टमेंट के द्वारा आपकी गाड़ी सीज की जा सकती है और आपके ऊपर जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

Q: थर्ड पार्टी इंश्योरेंस क्या होता है?

Ans: जब आप अपनी ऑफिशियल फाइनेंस कंपनी को छोड़कर के किसी दूसरी फाइनेंस कंपनी से इंश्योरेंस करवाते यह थर्ड पार्टी insurance कहलाता हैं।

Q: ट्रैक्टर का इंश्योरेंस कौन सी कंपनी से करवाएं?

Ans: ट्रैक्टर का इंश्योरेंस करने वाली जो कंपनिया है,उनकी जानकारी हमने ऊपर आर्टिकल मे दी है।

निष्कर्ष

तो साथियों उम्मीद है Tractor का insurance कैसे करें? अब आप भली भांति जान चुके होंगे! आपको यह पोस्ट पसंद आया है तो इसे अपने साथी ट्रेक्टर चालकों के साथ भी जरुर शेयर करें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here